अगर आप एक अच्छे राइटर नहीं है तो ब्लॉगिंग की दुनिया में आपका सफ़र काफी मुश्किल भरा हो सकता है | ये ऐसा सच है जिसे हर उस व्यक्ति को जानना जरुरी है जो ब्लॉगिंग में अपना भविष्य बनाना चाहते है | आजकल की फुर्तीली दुनिया में लोगो के पास ऐसे आर्टिकल के लिए बिलकुल समय नहीं है जिन्हें पढकर उन्हें मज़ा ना आता हो |

लेकिन अगर आप कुछ बातो का ध्यान रखे तो आप भी अपनी पोस्ट को बोरिंग होने से बचा सकते है | इस आर्टिकल से आप उन बारीकियों को समझ पायेगे जो किसी बोरिंग पोस्ट को भी Intresting बना सकती है | अगर इन बारीकियों पर काम किया तो आपका अगला आर्टिकल 800% ज्यादा Intresting होगा, खैर नंबर का हिसाब छोड़िये और पोस्ट पर ध्यान लगाइए |

एक कहानी बनाइये

इसका मतलब तो समझ ही गए होगे की आपको अपना हर आर्टिकल एक कहानी के रूप में पेश करना चाहिए, लेकीन इससे फायदा क्या होगा ?
इसके पीछे एक वैज्ञानिक कारण है – दरअसल कोई कहानी सुनने पर हमारा दिमाग एक्टिव मोड में चला जाता है, लेकिन इसके लिए कहानी का दुमदार होना जरुरी है | किसी अच्छी कहानी वाले आर्टिकल को पढने पर दिमाग में neural coupling नाम की प्रोसेस शुरू हो जाती है जिसमे दिमाग कहानी में आगे होने वाली घटनाओ को जानने के लिए उत्सुक हो जाता है और साथ ही उसी कहानी के वातावरण को अपने अंदर महसूस करने लगता है |

अगर कोई स्टोरी काफी इमोशनल है तो दिमाग “happy chemical” नामक हारमोन रिलीज़ करने लगता है |

अपनी कहानी को सीधे शब्दों में बताने से भी आपकी कहानी intresting बनती है, इसलिए कोशिश करनी चाहिए की आप अपनी बात सीधे शब्दों में बता सके |

Simple Grammar का इस्तेमाल करे

आप किसी भी लैंग्वेज में ब्लॉगिंग कर रहे हो आपको हमेशा आसन व्याकरण शब्दों का प्रयोग करना चाहिए, जिससे पढने वाले को आपका आर्टिकल बोरिंग ना लगे | ज्यादा गहराई वाले शब्दों के प्रयोग से पढने वाले की रूचि प्रभावित होती है, साथ ही ये आर्टिकल को लंबा भी बनातीं है |
कहने का मतलब सीधी सरल भाषा लोगो ज्यादा आकर्षित करती है |

Central Objective

आपकी पोस्ट की हैडिंग काफी ज्यादा महत्वपूर्ण होती है, इसलिए हैडिंग लिखते समय ध्यान रखे की केवल उन्ही शब्दों का प्रयोग करे जो पोस्ट के Central Objective (केंद्रीय उद्देश्य) को सीधे तौर पर दर्शाते हो | किसी भी अनावश्यक को हटाये और हो सके तो लंबे शब्दों की बजाय छोटे शब्दों का प्रयोग करे |

इसके बाद पोस्ट कंटेंट में आपका पूरा ध्यान एक ही विषय पर होना चाहिए जो की आपके पोस्ट की हैडिंग है, किसी दुसरे या संबंधित विषय पर आपको ज्यादा चर्चा नही करनी चाहिए |

पोस्ट की लम्बाई

कुछ लोग पोस्ट लम्बाई को लेकर चिंतित रहते है की उनका आर्टिकल इतना लंबा हो गया या इतना छोटा है | क्या लोग इसे पसंद करेगे या नहीं?
आपको इस बात का ध्यान रखना चाहिए की आप पोस्ट को अनावश्यक रूप से बड़ा ना बनाए | कोई रीडर ज्यादा इस बात का ध्यान रखता है की क्या ये आर्टिकल उसके लिए लाभदायक है या नहीं?
इसलिए अगर आपका कंटेंट रीडर को महत्वपूर्ण लगता है तो वो इसको पढने में थोडा ज्यादा समय भी दे सकता है, इसलिए सीधे शब्दों में आपको अपनी बात रखनी चाहिए |
अनावश्यक कंटेंट आपकी पोस्ट को बोरिंग बनाता है, दूसरी और आपकी पोस्ट में इतने शब्द जरुर होने चाहिए जिससे आप अपनी बात पूरी तरह समझा सके |

शब्दों की दीवार ना खडी करे

ये भी काफी important पॉइंट है, हो सकता है आपने अपनी बात साफ़ और सीधे शब्दों में रखी हो लेकिन उसे सीधे एक ही पैराग्राफ में समेटकर रखने से ये पढने वाले का सर चकरा सकता है | इतने सारे शब्दों को एक साथ पढने पर हो सकता है की वो भटक जाए और फिर परेशान होकर बीच में ही उसे बंद कर दे |
इसलिए अपनी पोस्ट को जरुरी पैराग्राफ के रूप में सेट करे, जिससे हर एक प्रोसेस अलग से डिफाइन हो पायेगी और साथ ही पढने वाले की रूचि बनी रहेगी |

दूसरी Relative पोस्ट्स की लिंकिंग

किसी एक पोस्ट में कुछ ऐसे शब्द होते है जो आपकी किसी दूसरी पोस्ट की हैडिंग को रिप्रेजेंट करते है, इसलिए ऐसे शब्दों को उस पोस्ट के साथ लिंक करना चाहिए | इसके दो फायदे है, पहला यूजर आपकी साइट पर ज्यादा समय बिताएगा और दूसरा आपकी अरेंजमेंट से इम्प्रेस होकर भविष्य में सीधे आपकी वेबसाइट को ही ओपन करेगा ना की किसी दुसरे आप्शन की ओर देखेगा |

अगर आपको ब्लॉगिंग से संबंधित कोई सहायता की जरूरत हो तो कमेंट करके पूछ सकते हो, अगर ये आर्टिकल आपके लिए मददगार रहा हो अपनी प्रतिक्रिया कमेंट में जरुर दे |
धन्यवाद !

Advertisements