आपने अपने कंप्यूटर या लैपटॉप पर अलग अलग ब्राउज़र का इस्तेमाल जरुर किया होगा, इसके अलावा आपने ये भी जानने की कोशिश की होगी की कौनसा ब्राउज़र सबसे तेज़ स्पीड और सबसे कम मैमोरी का इस्तेमाल करता है | अगर अपने ऐसी कोई रिसर्च की कोशिश की है तो आपको पता होगा की क्रोम दुसरे ब्राउज़र के मुकाबले ज्यादा RAM मैमोरी का इस्तेमाल करता है | अगर नहीं किया तो आप कंप्यूटर के Task Manager और Activity Monitor को देख सकते है की उसमे ज्यादातर क्रोम ही सबसे उपर होता है और सबसे ज्यादा मैमोरी इस्तेमाल करता है |
लेकिन क्यों ये इतनी ज्यादा RAM का इस्तेमाल करता है दुसरे ब्राउज़र के मुकाबले? और आप इसको कैसे कंट्रोल कर सकते हो?
क्या क्रोम सच में ज्यादा RAM का इस्तेमाल करता है?
सीधे तौर पर कहे तो, हां | क्रोम की RAM की भूख वाली ख्याति इसके लिए उचित है | दुसरे ब्राउज़र की तुलना में ये हमेशा बहोत ज्यादा मैमोरी का इस्तेमाल नहीं करता, लेकिन थोडा ज्यादा जरुर करता है | ITPro का एक लेटेस्ट टेस्ट ये बताता है की एक फेसबुक पेज, एक यूट्यूब वीडियो, एक बीबीसी आर्टिकल, एक Outlook web app और एक वेबपेज को open करने में क्रोम 600 MB की RAM का इस्तेमाल करता है, जबकि फायरफॉक्स केवल 400 MB से थोडा ज्यादा मैमोरी का इस्तेमाल करता है |
इसके अलावा अगर आपने खुद भी कभी ऐसा टेस्ट किया हो तो आपको भी निश्चित रूप से इसी तरह का रिजल्ट मिला होगा, जिसमे क्रोम दुसरे ब्राउज़र के मुकाबले ज्यादा मैमोरी इस्तेमाल करता है | इन टेस्ट में दुसरे ब्राउज़र के तौर पर Opera, Firefox, Edge, और सबसे कम इस्तेमाल वाला –Internet Explorer शामिल रहे होंगे | हालांकि क्रोम को सबसे तेज़ ब्राउज़र माना जाता है, लेकिन इस टाइटल के लिए उसे काफी सारे रिसोर्सेज की जरुरत होती है |
 
क्रोम इतनी ज्यादा RAM क्यों इस्तेमाल करता है?
इससे पहले की हम जाने क्रोम इतनी ज्यादा मैमोरी क्यों इस्तेमाल करता है, ये जानना ज्यादा जरुरी है की कौनसी चीज़ क्रोम को दुसरे ब्राउज़र से अलग बनाती है | हर एक एप्लीकेशन जो आपके कंप्यूटर में है वो कंप्यूटर की RAM में कुछ प्रोसेस को चलाती (RUN) है, RAM में ही कंप्यूटर को चलाने वाले सारे hard work को प्रोसेस किया जाता है | RAM का उपयोग डाटा को टेम्पररी स्टोर करने के लिए होता है, ये काफी फ़ास्ट मैमोरी होती है, इसकी सहायता से CPU हार्डडिस्क या हार्डड्राइव के डाटा को काफी तेज़ी से एक्सेस कर सकता है बजाय हार्डडिस्क या हार्डड्राइव से सीधे डाटा को एक्सेस करने के |
RAM के इस्तेमाल में क्रोम एक यूनिक तरीका अपनाता है, ये हर टैब, प्लगइन और एक्सटेंशन को अलग-अलग RAM process में स्टोर करता है | इसे प्रोसेस आइसोलेशन कहते है और ये एक प्रोसेस को दूसरी प्रोसेस लिखने से रोकता है | यही कारण है की जब आप अपने कंप्यूटर पर Task Manager या Activity Monitor को खोलते है तो आपको क्रोम की बहोत सारी अलग-अलग entries मिलती है | इसमें हर प्रोसेस बहोत कम आकार की मैमोरी को इस्तेमाल करती है, लेकिन जब इन सबको जोड़ा जाता है तो मैमोरी लोड बहोत ज्यादा हो सकता है |
 
क्रोम RAM का इस तरह इस्तेमाल क्यों करता है? 
हर एक प्रोसेस को अलग रन करवाने का ये फायदा है की अगर उनमे से कोई एक क्रेश भी हो जाती है तो भी पूरा ब्राउज़र स्थिर बना रहता है | उदाहरण के लिए अगर कोई एक प्लगइन फैल हो गया है, तो इसके लिए आपको टैब रिफ्रेश करने की जरूरत होती है | अगर टैब और प्लगइन दोनों एक ही प्रोसेस में रन हो रहे होते तो हो सकता था कि आपको पूरा ब्राउज़र बंद करके दोबारा शुरू करना पड़ता, बजाय की केवल एक टैब को |
क्रोम में टैब्स, प्लगइन और एक्सटेंशन के अलावा कुछ और प्रोसेसेज होती है जो RAM का इस्तेमाल करती है, इनमे Pre-rendering एक नोट करने लायक उदाहरण है | Pre-rendering से क्रोम पहले से ही उन वेबपेज की लोडिंग शुरू कर देता है जिन्हें शायद आप आप वेब सर्फिंग के दौरान खोलने वाले हो (ये गूगल सर्च का टॉप रिजल्ट या फिर किसी वेबसाइट पर “next page” का लिंक हो सकता है) | इसके लिए resources की जरुरत होती है और साथ ही ये ज्यादा RAM का भी इस्तेमाल करता है | लेकिन ये आपके ब्राउज़िंग एक्सपीरियंस को काफी तेज़ बना सकता है अगर ये सही से काम करे |
अगर ये सही से काम नहीं करे तो ये आपकी काफी ज्यादा RAM को कंट्रोल करके सारी चीजों को धीमा कर सकता है |
क्रोम की इतनी RAM इस्तेमाल से कोई प्रॉब्लम?
बिल्कुल, अगर क्रोम बहोत ज्यादा RAM का इस्तेमाल कर रहा है तो ये प्रॉब्लम हो सकती है | क्योकि इससे दूसरी एप्लीकेशन के लिए लिमिटेड RAM मैमोरी उपलब्ध होगी, जिससे आप कंप्यूटर का सही से उपयोग नहीं कर पायेंगे |
क्रोम की ज्यादा RAM इस्तेमाल करने की समस्या तभी सही सही मानी जा सकती है जब ये चीजों को धीमा कर दे, और ये आपकी ब्राउज़िंग स्पीड या पुरे कंप्यूटर की स्पीड, दोनों में से कुछ भी हो सकता है | लेकिन अगर आपको लगता है की ये RAM का ज्यादा इस्तेमाल कर रहा है, पर आपको स्पीड से संबंधित कोई परेशानी नहीं हो रही है तो आपको इसके बारे में फिक्र करने की जरूरत नहीं है |
अगर ये चीजों को धीमा कर रहा है तो आपको जरुर कोई एक्शन लेना चाहिए |
 
क्रोम के RAM इस्तेमाल को कैसे कम करे ?
काफी सारे तरीके है जिनसे आप ब्राउज़र की स्पीड को बढ़ा सकते है और मैमोरी के इस्तेमाल को भी कम कर सकते है | इसके अलावा आप क्रोम के Task Manager को देख कर आसानी से पता कर सकते है की कौनसा टैब या एक्सटेंशन सबसे ज्यादा मैमोरी का इस्तेमाल कर रहा है, जिससे उसे बंद करके आप थोडा स्पेस फ्री करवा सकते है | ये Task Manager विंडोज के Task Manager की ही तरह काम करता है |
अगर आप विंडोज इस्तेमाल कर रहे है तो Shift + Esc और अगर Mac का इस्तेमाल कर रहे है तो Window menu से Task Manager को एक्सेस कर सकते है |
Task Manager से हैवी प्रोसेस को हटाने के बाद कुछ और चीज़े है जिनसे आप ब्राउज़र की स्पीड को बढ़ा सकते है | अगर आपकी RAM मैमोरी कम है तो टैब discarding को चालू करने से क्रोम उन सभी टैब्स को बंद कर देगा जिनका इस्तेमाल आप काफी समय से नहीं कर रहे है |
आप उन एक्सटेंशन को हटा सकते है जो ज्यादा पॉवर का इस्तेमाल कर रहे है, और कुछ ऐसे एक्सटेंशन को जोड़ सकते है जो आपको रिसोर्सेज का मैनेजमेंट करने में मदद करे जो क्रोम द्वारा इस्तेमाल हो रहे है | आप क्रोम की हिस्ट्री को डिलीट करके भी काफी मैमोरी स्पेस फ्री करवा सकते है | आप किसी दुसरे ब्राउज़र को इस्तेमाल करके भी देख सकते है की कौनसा ब्राउज़र आपके लिए ज्यादा बेहतर है |
क्या आपका क्रोम आपके कंप्यूटर पर सही तरीके से काम करता है? कमेंट करके जरुर बताए | अगर कोई दिक्कत हो तो कमेंट में बताए |
Advertisements